स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग XVII

यदि हम स्वस्थ रहना चाहते हैं तथा स्वस्थवृत्त की पुनर्स्थापना करना चाहते हैं, उसे फैलाना चाहते हैं तो व्यक्तिगत स्वास्थ्य के आयुर्वेद के कालातीत दिशा-निर्देशों के माध्यम से हम सभी को स्वस्थ रहना होगा।

स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग XVI

आरोग्य बड़ा सुख है यह पिछले दो वर्ष के कोरोना प्रभावित काल में हमने भली-भांति अनुभव किया है। इसमें हमें स्वास्थ्य के दोनों पक्ष- निजी या व्यक्तिगत तथा सामाजिक – दोनों अच्छे से अनुभव करने को मिले।

स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग XV

जो व्यक्ति ऋतुसात्मय को, ऋतुओं के अनुसार आहार तथा व्यवहार में परिवर्तन के आदी होने के बारे में जानता है, तथा ऐसे व्यवहार का समय पर अभ्यास करता है, तथा जिसके आहार में विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ होते हैं, उसका बल तथा ऊर्जा-आभा बढ़ जाती है, तथा वह एक स्वस्थ, लंबा जीवन जीता है। ऋतु के अनुरूप आहार-विहार की चर्चा दूसरे खंड में ऋतुचर्या में की गयी है।

स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग XIV

अकाल भोजन का हानिकारक प्रभाव तुरंत नहीं दिखता, वह धीरे-धीरे शरीर की धातुओं में तथा दोषों में विषमता उत्पन्न करता है। इसे एक प्रकार का धीमा विष भी कहा जा सकता है। इस अपथ्य का आजकल अधिक प्रभाव दिखता है।

स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग XI

बुरे लोगों की संगति, सद्य आलसी बनकर पड़ा रहना, मुँह से साँस लेना तथा जीभ की अतिशय लोलुपता, ये सभी कारण तन-मन की स्वास्थ्य सौरभ का विनाश करते हैं।

स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग X

आयुर्वेद द्वारा बताये गए आहार के मूलभूत सिद्धांतों को पथ्यापथ्य, समता-विषमता, आहार तत्व व आहार विधि-विधान के माध्यम से जाना जा सकता है।

स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग VIII

स्वस्थ वृत्त को समझने के पश्चात अब उसके उन नियमों को जानना चाहिए जो त्रि-स्वास्थ्य की कुंजी हैं, चाबी हैं। दिनचर्या, रात्रिचर्या तथा ऋतुचर्या में वह सभी क्रियाएं निहित हैं जिनसे हम स्वस्थ रह सकते हैं।

स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग VII

स्वस्थ व्यक्ति दिनचर्या, रात्रिचर्या तथा ऋतुचर्या का उसी प्रकार पालन करें जिस प्रकार शास्त्रों में वर्णित किया गया है। इसका आचरण करने से मनुष्य सदा स्वस्थ रहता है, उसके विपरीत आचरण करने से रोग से ग्रस्त हो जाता है।

स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग VI

स्वस्थ व्यक्ति दिनचर्या, रात्रिचर्या तथा ऋतुचर्या का उसी प्रकार पालन करें जिस प्रकार शास्त्रों में वर्णित किया गया है। इसका आचरण करने से मनुष्य सदा स्वस्थ रहता है।

स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग V

काम, क्रोध, लोभ, मोहादि मानसिक भाव हैं। इनका शमन/निग्रह करने के लिये सत्या बुद्धि होनी चाहिए तथा सत्या बुद्धि सदवृत्त पालन करने से विकसित होती है। क्रोध का विपरीत भाव क्षमा है तथा राग-द्वेष का विपरीत समता है। यह क्षमा तथा समता दस पालनीय धर्मों में से दो हैं। तो स्वस्थ वृत्त तथा सदवृत्त की स्थापना के लिये इन धर्मों का पालन आवश्यक है।

स्वस्थवृत्त- स्वस्थ रहने का एक उत्कृष्ट विचार भाग IV

स्वस्थवृत्त के अंतर्गत स्थूल रूप से पालन किये जाने वाले नियम हैं परंतु सदवृत्त के अंतर्गत पालन किये जाने वाले धर्म हैं, आचरण हैं। ये प्रत्यक्ष रूप से मात्र ‘गुड टू हैव 4’ कर्तव्य लगते हैं, परंतु इनका लक्ष्य परोक्ष है।