जरत्कारु मुनि: (भाग-२) तप, संयम तथा आत्म सुधार

जरत्कारु दुःख से स्तब्ध थे। उनका हृदय दु:ख से भर गया और गला रुंध आया, बोलने के लिए वे संघर्ष कर रहे थे। अब तक उन्हें अपने तपस्वी जीवन पर गर्व था और आज यहाँ वह अपने पूर्वजों के सामने थे और यह ज्ञान मिल रहा था

जरत्कारु मुनि: (भाग-१) तप, संयम तथा आत्म सुधार

ऋषि उग्रश्रवा ने ये कथा इसी स्थान पर अपने पिता लोमहर्षण से सुनी थी। आस्तिक का आख्यान सुनाने से पहले उनके पिता जरत्कारु की कथा सुनाई गई, जो इस लेख का केंद्र बिंदु हैं। जरत्कारु कठिन तपस्या के लिए विख्यात थे।