All posts tagged: Puranas

भारतीय ग्रंथों तथा पुराणों में देवी दुर्गा का वर्णन – भाग ९

‘भारतीय ग्रंथों तथा पुराणों में देवी दुर्गा का वर्णन’ शृंखला के अन्तिम भाग में मनीष श्रीवास्तव जी शुम्भ वध की कथा का वर्णन कर रहे हैं।

भारतीय ग्रंथों तथा पुराणों में देवी दुर्गा का वर्णन – भाग ८

धूम्रलोचन, चंड-मुंड तथा रक्तबीज जैसे अनिष्टों का वध करने के बाद इस अंक में देवी के समक्ष रणभूमि में प्रवेश कर रहे हैं शुम्भ-निशुम्भ।

भारतीय ग्रंथों तथा पुराणों में देवी दुर्गा का वर्णन – भाग ६

यह कथा श्रीमार्कंडेय पुराण में, सावर्णिक मन्वंतर की कथा के अंतर्गत, देवीमाहाम्य में छठे अध्याय में वर्णित थी। इस अंक में हम चंड-मुंड और महादेवी युद्ध का वर्णन पढने वाले हैं।

भारतीय ग्रंथों तथा पुराणों में देवी दुर्गा का वर्णन – भाग ५

‘भारतीय ग्रंथों तथा पुराणों में देवी दुर्गा का वर्णन’ शृंखला के आज के अंक में देवी द्वारा धूम्रलोचन का वध और शुम्भ निशुम्भ के रणभूमि में आगमन की कथा।

भारतीय ग्रंथों तथा पुराणों में देवी दुर्गा का वर्णन – भाग ४

शुम्भ तथा निशुम्भ से तिरस्कृत देवतागण अपराजिता देवी का स्मरण कर माँ जगदम्बा की शरण में जाते है तथा भगवती विष्णु माया की स्तुति में लीन हो जाते हैं। स्तुति से प्रसन्न हो, देवी पार्वती की कोशिकाओं से कौशिकी प्रकट हो देवगणों को दर्शन देती हैं।

भारतीय ग्रंथों तथा पुराणों में देवी दुर्गा का वर्णन – भाग ३

पिछले अंक में हमने आपको महाकाली की कथा से अवगत कराया था। इस अंक में हम आपको महिषासुरमर्दिनी देवी की कथा, के बारे में बताने वाले हैं।

Geography

Puranas On The Parvatas Of The World

‘The Purāṇas place the whole mountain system of the world at the centre around the Meru, which is in turn said to be situated in the middle of Ilāvṛta varṣa.’ Research paper by Dr. Vidyuta K

Krishna

The Raja-dharma Series: Call for Articles

Indic Today calls for Articles for the “Raja Dharma Series” – to create a collection of articles from various Epics, Puranas and Classical Literature of Sanskrit and other Bharateeya Bhashas on Rajadharma.