All posts tagged: ज्ञान

वैदिक शिक्षा – भाग १: गुरुकुल के प्रकार

जहाँ गुरु के सानिध्य व सामीप्य में समन्वयात्मक ज्ञान मिले उस तपस्थली को आदर्श गुरुकुलम् कहा जाता है। ऐसे आदर्श व पूर्ण गुरुकुल ही समाज की सभी व्यवस्थाओं के लिए ऐसे उच्च सज्जनों का निर्माण करता है जिनसे सारा विश्व सीखता है।

श्रीराम-शबरी मिलन: प्रभु श्रीराम की ‘नवधा भक्ति’ के नौ रस

नवधा भक्ति में लीन शबरी ने श्री राम का अनुपम दर्शन कर के उस गति को प्राप्त कर लिया जो योगियों के लिए भी दुर्लभ है।