All posts tagged: आचार्य

वैदिक शिक्षा – भाग १: गुरुकुल के प्रकार

जहाँ गुरु के सानिध्य व सामीप्य में समन्वयात्मक ज्ञान मिले उस तपस्थली को आदर्श गुरुकुलम् कहा जाता है। ऐसे आदर्श व पूर्ण गुरुकुल ही समाज की सभी व्यवस्थाओं के लिए ऐसे उच्च सज्जनों का निर्माण करता है जिनसे सारा विश्व सीखता है।